Random Posts

इंडियन आर्मी के जवानों द्वारा कही गई ये 10 बातें आपका सीना गर्व से फुला देगी

इंडियन आर्मी भारत का एक अभिन्न अंग हैं. इसके बिना इंडिया अधूरा सा हैं. भारतीय सेना पूरी दुनियां में दूसरी सबसे बड़ी आर्मी हैं. आर्मी के जवान सरहद पर 365 दिन और 24 घंटे देश की सुरक्षा में लगे रहते हैं. ऐसे में इन जवानों के लिए देश और आर्मी कितनी मायनें रखती हैं इसका अंदाजा आज हम आपको देने वाले हैं. आज हम इंडियन आर्मी के बहादुर जवानों के द्वारा कहे गए फेमस Quotes (कहावतें) आपको बताने वाले हैं. जब आप जवानों के इन विचारों को पढ़ेंगे तो आपका सीना गर्व से फूल जाएगा.
1. बिना लिखित ऑर्डर्स के कभी पलायन नहीं होगा और ये ऑर्डर्स कभी जारी भी नहीं किए जाएंगे.
– फिल्ड मार्शल सैम मेनशाऊ (Sam Manekshaw), 1962 वार के मुख्य कमांडर
2. जब तक आपने मृत्यु को अपनी आँखों के सामने नहीं देखा जब तक आप ने असली जीवन नहीं जिया हैं. जो लड़ना पसंद करते हैं उनके लिए लाइफ में एक अलग ही फ्लेवर होता हैं. रक्षक (जवान) को कभी नहीं पता होता हैं कि आगे क्या होगा.

– कैप्टन आर. सुभ्रमंयम कीर्ति चक्र
3. हम बर्फ में जमे हैं लेकिन फिर भी एकदम शांत और चुप हैं. जब बिगुल बजेगा, तो हम फिर उठेंगे और आगे मार्च करेंगे.
– सियाचन बेस कैंप से अज्ञात व्यक्ति
4. यदि कोई आदमी ये कहे कि उसे मौत से डर नहीं लगता, तो वह या तो झूठ बोल रहा हैं या फिर वो एक गोरखा हैं. (गोरखा नेपाल की शासक जाति हैं)

– फिल्ड मार्शल सैम मेनशाऊ (Sam Manekshaw)
5. कुछ लक्ष्य इतने ज्यादा महत्त्व रखते हैं कि उनके फ़ैल होने में भी यश और तेजस्व झलकता हैं.
कैप्टन मनोज कुमार पांडे (PVC 1/11 गोरखा राइफल्स)
6. कभी सोचता हूँ कि जिन राजनेताओं ने हमें देश की सुरक्षा के लिए तैनात किया हैं उन्हें mortar and motor (मिट्टी और मशीन) , गन और होइटसर (शार्ट गन), guerrilla and gorilla (छापेमारी और गोरिल्ला) में अंतर पता भी हैं या नहीं. हालाँकि बहुत सो को इसका एहसास बाद में होता हैं.

– फिल्ड मार्शल सैम मेनशाऊ (Sam Manekshaw)
7. दुश्मन हमसे सिर्फ 50 गज की दूरी पर हैं. हम संख्या में बहुत कम हैं. हमारे ऊपर ताबड़तोड़ फायरिंग हो रही हैं. लेकिन मैं एक इंच भी पीछे नहीं हटूंगा. अपने आखिर जवान और आखरी राउंड तक मुकाबला करता रहूँगा.
– मेजर सोमनाथ शर्मा
8. यदि मेरे खून की कीमत चुकाने के पहले ही मौत आ गई तो कसम से मैं इस मौत को ही मार दूंगा.

– कैप्टन मनोज कुमार पांडे
9. नहीं सर! मैं अपना टैंक नहीं छोडूँगा. मेरी बंदूक अभी भी काम कर रही हैं और मैं इन कमीनों को सबक सिखा के रहूँगा.
– लेफ्टिनेंट अरुण कह्तरपाल पीवीसी
10. ये दिल मांगे मोर (ज्यादा).

– कैप्टन विक्रम बत्रा पीवीसी (कारगिल लड़ाई जितने के बाद)
इंडियन आर्मी के जवानों के द्वारा कही गई ये सभी बातें सच में प्रेरणादायक हैं. इन्हें पढ़ने के बाद यक़ीनन कई लोग प्रेरित होंगे और भारतीय आर्मी का हिस्सा बनने में गर्व महसूस करेंगे. ये कहावतें हमें ये भी बताती हैं कि हमारे जवान सरहद पर किस माइंड सेट के साथ काम करते हैं. वे अपने इस काम को बहुत सीरियसली लेते हैं. यदि आपको भारतीय सेनिको की ये बातें पसंद आई तो इसे दूसरों के साथ शेयर करना ना भूले.

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ