Random Posts

13 अंक से कांपती है दुनिया की आधी आबादी, जानें इस अंक के अशुभ होने का कारण

13 नंबर को शुभ अंक नहीं समझा जाता है और ऐसा माना जाता है कि अगर किसी शुभ कार्य को करने से पहले ये अंक अचानक से दिख जाए, तो वो कार्य असफल हो जाता है। 13 अंक को अशुभ माने के पीछे एक कहानी जुड़ी हुई है जो कि इस प्रकार है।

यीशु मसीह के साथ हुआ था विश्वासघात

विदेश में इस अंक को अशुभ इसलिए समझता जाता है क्योंकि 13 तारीख को एक व्यक्ति ने यीशु मसीह के साथ धोखा किया था। इतना ही नहीं जिस दिन इस शख्स ने यीशु मसीह के साथ धोखा किया था उस समय वो 13 अंक वाली कुर्सी पर बैठा हुआ था। तभी से इस अंक को अशुभ अंक माना जाने लगा है और यीशु मसीह पर आस्था रखने वाले लोग इस अंक को देखना तक पसंद नहीं करते हैं।

13 अंक से जुड़ी रोचक बातें –


डर जाते हैं इस अंक से लोग

डॉक्टरों के अनुसार इस अंक को डर से जोड़कर देखा जाता है और इस अंक से डरना एक बीमारी होती है जिसे स्काइडेकाफोबिया या थर्टीन डिजिट फोबिया कहा जाता है। जो लोग स्काइडेकाफोबिया या थर्टीन डिजिट फोबिया से ग्रस्त होते हैं वो इस अंक को देखते ही बेहोश हो जाते हैं या इस नंबर से डर जाते हैं।

चीन में भी माना जाता है अशुभ


चीन देश के लोग भी इस अंक को अशुभ मानते हैं और 13 तारीख के दिन किसी भी शुभ कार्य को नहीं करते हैं। वहीं फ्रांस देश में खाने के दौरान 13 कुर्सी नहीं रखी जाती हैं।

नहीं होता 13 नंबर का कमरा

कई ऐसे देश हैं जहां पर होटल में 13 नंबर का कोई भी रूम या मंजिल नहीं होती है। क्योंकि होटल के मालिक भी इस नंबर को अपने व्यापार के लिए अशुभ मानते हैं।

भारत के लोगों में भी है डर


भारत के लोग भी इस अंक को अपशगुनी मानते हैं और यहीं वजह है कि चंडीगढ़ शहर में  सेक्टर 13 नहीं है। दरअसल जिस व्यक्ति को चंडीगढ़ शहर का डिजाइन तैयार करने का कार्य सौंप था। उस व्यक्ति ने इस शहर में 13 सेक्टर नहीं रखा है। इतना ही नहीं हमारे देश के पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी भी इसे अशुभ अंक मानते थे। क्योंकि उनकी सरकार 13 दिनों के अंदर ही गिर गई थी। वहीं जब वो वापस से सत्ता में आए तब उन्होंने 13 तारीख को शपथ ग्रह की थी और उनकी ये सरकार 13 महीने के अंदर ही गिर गई।

नहीं निकलते घर से बाहर

कई ऐसे देश भी हैं जहां पर लोग 13 तारीख के दिन अपने घरों से बाहर नहीं निकलते हैं और घर में ही रहना पसंद करते हैं। जबकि इटली के कई ओपरा हाउस में 13 नंबर की सीट नहीं होती है और 12 नंबर के बाद सीधे 14 नंबर की सीट रखी जाती है।

नई करते शुभ कार्य


विदेशों में 13 तारीख के दिन शादी या किसी भी तरह का शुभ कार्य नहीं किया जाता है। इतना ही नहीं अगर किसी बच्चे का जन्म 13 तारीख को होता है तो उसका जन्मदिवस 13 की जगह 14 तारीख को मनाया जाता है।

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ