Random Posts

भारतीय संविधान की शपथ लेकर कपल ने रचाई शादी, ब्लड डोनेशन कैंप रख कर किया बारात का स्वागत

जब भी भारत में कोई शादी होती हैं तो दिमाग में बैंड बाजा, बारात, पंडित, मंत्र, सात फेरे, 56 तरह के पकवान, आतिशबाजी और तमाम तरह के शो ऑफ जैसी चीजें नज़र आने लगती हैं. यहाँ लोगो को अपनी शादी में दिखवा करने का बड़ा शौक होता हैं. यदि कम बजट वाली शादी हो तो भी पारंपरिक रस्में जैसे पंडित के मंत्रों के साथ अग्नि के सात फेरे लेने जैसी चीज तो होती ही हैं. हालाँकि ओड़िसा के एक कपल ने इन रीती रिवाजों से हटकर एक अनोखी शादी रचाई हैं. इन्होने संविधान की शपथ लेकर अपनी शादी रचाई. साथ ही अपनी शादी में एक ब्लड डोनेशन कंप भी रखवाया. आइये आपको इस अनोखी शादी के बारे में थोड़ा और विस्तार से बताते हैं.
31 वर्ष के विप्लब कुमार ने 23 वर्ष की अनीता पात्र से शादी रचाई हैं. ये अनोखी शादी ओड़िसा के गंजाम जिले के बरहमपुर के कमापल्ली स्थित वैदनाथेश्वर मंदिर के कल्याण मंडप में संपन्न हुई हैं. इस शादी की ख़ास बात ये रही कि इसमें ना तो कोई पंडित था और ना ही बैंड बाजा या दहेज़ जैसी कोई चीज थी. यहाँ तक कि इन्होने अपनी शादी में पटाखें तक नहीं फोड़े. इतना ही नहीं इन दोनों की शादी तय करते समय किसी भी प्रकार का कुंडली या राशि मिलान नहीं किया गया था. बल्कि इन्होने तो अपनी शादी वाले दिन एक ब्लड डोनेशन कैंप रख डाला जहाँ बारात में आए कई लोगो ने भाग भी लिया. इस दौरान टोटल 36 यूनिट खून भी एकत्र हुआ. ये कैंप मानवतावादी हिंदू संगठन की मदद से लगाया गया था.

दुल्हे के पिता का कहना हैं कि हम मेरे बेटे की शादी के माध्यम से समाज को एक ख़ास संदेश देना चाहते थे. वे बताते हैं कि मैं एक तर्कवादी इंसान हूँ. ट्रेडिशनल मेरिज में विश्वास नहीं रखता जहाँ पंडित मंत्र पड़ता हैं और कपल 7 फेरे लेते हैं. बस यही वजह थी कि इस कपल ने मंदिर में एक दुसरे को सिर्फ वरमाला पहनते हुए और संविधान की शपथ के साथ अपनी शादी संपन्न की. ये शादी करने का अब तक का सबसे अनोखा और अच्छा तरीका हैं.
उधर सोशल मीडिया पर भी लोगो को इस तरह की शादी का स्टाइल पसंद आ रहा हैं. आमतौर पर शादी को भव्य बनाने के चक्कर में लोग लाखों रुपए यूं ही उड़ा देते हैं. जबकि शादी एक सामजिक संदेश देने का भी अच्छा अवसर होता हैं. यही वजह हैं कि लोग कई तरह से अपनी शादी को अलग मनाने की कोशिश करते हैं. मसलन इसके पहले कई शादियों में लोगो को बारातियों को गिफ्ट में एक पेड़ देते हुए भी देखा गया हैं. रही बात ट्रेडिशन की तो ये अपनी अपनी सोच होती हैं. जो तर्कवादी लोग होते हैं वे पंडित, मंत्र, कुंडली इन चक्कर में पड़ते ही नहीं हैं. वे अपनी लाइफ को प्रैक्टिकली जीने की कोशिश करते हैं.
वैसे आप लोगो को शादी का ये स्टाइल कैसा लगा हमें कमेंट में जरूर बताए. साथ ही यदि आपको ये चीज अच्छी लगी तो इसे ज्यादा से ज्यादा शेयर करे ताकि दुसरे लोग भी इससे से प्रेरणा ले सके.

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ