Random Posts

पाकिस्तान की अदालत ने टीएलपी लीडर और 87 कार्यकर्ताओं को दी 4,738 साल की सजा



पाकिस्तान की आतंकवाद विरोधी अदालत ने टीएलपी (तहरीक ए लिबैक) के लीडर खादिम हुसैन रिजवी, उनके भाई, भतीजे और अन्य 87 कार्यकर्ताओं को 4,738 साल की सजा और 13 मिलियन रुपये का जुर्माना भरने की सजा सुनाई है। साथ ही सभी अभियुक्तों की संपत्ति जब्त करने का भी आदेश है।

यह आदेश रावलपिंडी जज शौकत कमाल दार लेट ने गुरुवार देर रात सुनाया। अदालत ने हर अभियुक्त को 55 साल की सजा और 1,35,000 का जुर्माना लगाया है। अगर जुर्माना नहीं भरा जाता है तो अभियुक्त को 146 साल की अतिरिक्त सजा काटनी होगी।

निर्णय सुनाने के समय अदालत परिसर के चारों ओर कड़े सुरक्षा प्रबंध किए गए थे। जैसे ही अदालत ने फैसला सुनाया, पुलिस, एलीट फोर्स और स्पेशल ब्रांच के कार्यकर्ताओं ने सभी अभियुक्तों को तीन बसों में भरा और अटोक जेल ले गए।

उल्लेखनीय है कि 24 नवम्बर 2018 को पुलिस ने टीएलपी चीफ खादिम हुसैन रिजवी, उनके भाई अमीर हुसैन रिजवी, भतीजे मुहम्मद अली के अलावा 87 कार्यकर्ताओं को अशांति पैदा करने के आरोप में गिरफ्तार किया है। यह गिरफ्तारियां उस विरोध प्रदर्शन के बाद हुईं जो चार दिनों तक चला इसमें कई अन्य राजनैतिक पार्टियां भी शामिल थी।  यह प्रदर्शन असिया बीबी को छोड़ने के सुप्रीम कोर्ट के निर्णय के बाद हुआ जिस पर ईश-निंदा के आरोप लगे थे।

सरकार और क्षेत्रीय पार्टियों के बीच चार पॉइंट अग्रीमेंट होने के बाद ही ये विरोध प्रदर्शन समाप्त हुआ था।

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ