Random Posts

नागालैंड में बना है एशिया का सबसे बड़ा चर्च

नागालैंड में बना है एशिया का सबसे बड़ा चर्चनागालैंड में बनाया गया है एशिया का सबसे बड़ा सुमी बैप्टिस्ट चर्च। चर्च की ये बिल्डिंग न सिर्फ भारत के उत्तर-पूर्वी इलाके बल्कि, एशिया में बने सभी चर्च से सबसे बड़ी इमारत है। 

इस चर्च को बनाने का सबसे पहला ख्याल आज से तेरह साल पहले आर्किटेक्ट होनोली को आया जो नागालैंड की ही रहनेवाली हैं।


इस चर्च को बनाने में लगभग 36 करोड़ रुपए का खर्च आया।  इस चर्च को सदस्यों से प्राप्त दान और मौजूदा फंड से बनाया गया है। इसे एशिया का सबसे बड़ा चर्च बताया जा रहा है।

इतने बड़े चर्च में दूल्हा–दूल्हन के लिए ड्रेसिंग रूम, पूल, कैफेटेरिया, कांफ्रेंस रूम्स आदि बनाए गए हैं। इस चर्च का निर्माण 5 मई, 2007 को शुरू हुआ था। इसे बनने में लगभग 10 साल का वक्त लगा। चर्च समुद्र स्तर गहराई से 1864.9 मीटर की ऊंचाई पर है।

चर्च बनाने के लिए पिछले नौ सालों में 2000 से अधिक श्रमिकों को इनर लाइन परमिट जारी किया जा चुका है। चर्च की घंटी -500 किग्रा, 93% पीतल, 1.5% रेडियल ध्वनि आउटरीच के साथ 7% टिन-पोलैंड से बनाई गई है। सिर्फ घंटी की लागत 15 लाख रुपए है।

अंडे के आकार में बने इस चर्च में 8,500 लोगों के बैठने की वयवस्था है। इस इमारत की लंबाई 203 फुट, 153 फुट की चौड़ाई और 166 फुट ऊंचाई है। इस चर्च का क्षेत्र 23,73,476 वर्ग फुट में है।

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ