Random Posts

असम: व्हाइट हाउस की रक्षा करने वाले कुत्ते अब करेंगे काजीरंगा के राइनोस की रक्षा

असम: व्हाइट हाउस की रक्षा करने वाले कुत्ते अब करेंगे काजीरंगा के राइनोस की रक्षा

व्हाइट हाउस की रक्षा और ओसामा बिन लादेन का सफाया करने वाले सील टीम का हिस्सा रहे बेल्जियम मैलिनोइस कुत्तों को अब काजीरंगा राष्ट्रीय उद्यान के वन्यजीव और राइनो की रक्षा में लगाया जाएगा। 


अब ये कुत्ते इन क्षेत्रों में वन्यजीव संरक्षण और शिकार विरोधी अभियानों के लिए इस्तेमाल किए जाएंगे। 


बता दें कि हाल के दिनों में बन्य जीवों का शिकार और तस्करी काफी बढ़ गई है। इसे देखते हुए चार नए बेल्जियम मैलिनोइस कुत्तों को प्रशिक्षित किया जा रहा है।


असम ट्रिब्यून के रिपोर्ट के मुताबिक कुत्तों को किसी अज्ञात स्थान पर प्रशिक्षित किया जा रहा है। इन कुत्तों को आने वाले सर्दियों में रक्षा अभियान में शामिल होने की संभावना है। कुत्तों को उन्नत प्रशिक्षण देने के लिए विदेश से एक ट्रेनर लाया जाएगा।


एनजीओ अरण्यक ने यूके स्थित द डेविड शेफ़र्ड वन्यजीव फाउंडेशन से 2011 में असम के राइनो असर इलाकों में शिकार विरोधी उपायों की सहायता के लिए के9 स्निफर कुत्ते मंगाए थे। वे तीन-चार वर्षों से यूनैस्को वर्ल्ड हेरिटेज साइट शुमार काजीरंगा राष्ट्रीय उद्यान जानवरों की रक्षा कर रहे हैं।

के.एन.पी. के तत्कालीन निदेशक द्वारा गुवाहाटी उच्च न्यायालय में काजीरंगा में गैंडो संरक्षण से संबंधित एक जनहित याचिका के संबंध में प्रस्तुत एक रिपोर्ट में उल्लेख किया गया था कि के9 कुत्ते यूनिट ने प्रमुख गैंडो शिकारियों की गिरफ्तारी की सहायता की थी अब तक कुत्ता यूनिट ने काजीरंगा अधिकारियों और पुलिस दलों को काजीरंगा में राइनो शिकार की घटना के महत्वपूर्ण सुराग देने में मदद की है। इस सहयोग के द्वारा केएनपी के अधिकारियों और पुलिस ने 30 से अधिक शिकारियों को गिरफ्तार किया है।


उन्होंने कहा, 'इस कुत्ते की नस्ल की मांग के आधार पर हम असम के राइनो असर वाले इलाकों में चार और प्रशिक्षित बेल्जियम मैलिनोइस कुत्तों को भी इस वर्ष नवंबर तक शामिल कर रहे हैं।


अरण्यक के बिभव तालुकदार ने असम ट्रिब्यून को बताया कि कुत्तों को पूर्वोत्तर भारत के एक अज्ञात स्थल पर प्रशिक्षण दिया जा रहा है।


उन्होंने कहा कि हम इस विशेष नस्ल का इस्तेमाल उनके क्षमता के कारण करते हैं। वे संदिग्धों की गिरफ्तारी में सहायता भी करते हैं। यह नस्ल अमेरिकी और यूरोपीय सेनाओं द्वारा सफलतापूर्वक सैन्य काम करने में इस्तेमाल किया गया है। इस नस्ल के कुत्ते को विस्फोटकों और नशीले पदार्थों को सूंघने में सक्षम है। इसने इराक और अफगानिस्तान में सरकार विरोधी शक्तियों पर नज़र रखने में आदर्श प्रदर्शन दिखाया है।

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ