Random Posts

इस जनजाति में चलता है सिर्फ औरतों का राज, कर सकती हैं कई मर्दों से शादी

आज तक आपने यहीं सुना होगा की भारत एक पुरुष प्रधान देश है लेकिन मेघालय में बसने वाली खासी जनजाति में पुरुषों का नहीं बल्कि महिलाओं का वर्चस्व है। यहां पुरूषों के बजाय महिलाएं घर में प्रधान होती हैं। 

 इस जनजाति में चलता है सिर्फ औरतों का राज, कर सकती हैं कई मर्दों से शादी

इसके साथ ही इस जनजाति की महिलाएं कई पुरूषों से शादी कर सकती हैं, इतना ही नहीं पुरूषों को शादी के बाद अपने ससुराल में रहना पड़ता है। खासी ट्राइब में महिलाओं का वर्चस्व का बढ़ा कारन है की वो महिलाओं को पुरूषों से बढ़कर मानते हैं। यहां परिवार के अहम फैसले लेने का हक भी महिलाओं को है। इसके अलावा यहां बच्चों का सरनेम भी मां के नाम पर होता है। समुदाय की सबसे छोटी बेटी को विरासत का सबसे ज्यादा हिस्सा मिलता है। 



सबसे छोटी बेटी को ही माता-पिता, अविवाहित भाई-बहनों और संपत्ति की देखभाल भी करनी पड़ती है। छोटी बेटी को खातडुह कहा जाता है। उसका घर हर रिश्तेदार के लिए खुला रहता है। इस समुदाय में महिलाएं बचपन से ही जानवरों के अंगों से खेलती हैं और उनका इस्तेमाल आभूषण के लिए करती हैं।

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ