Random Posts

फिटकरी के इस 2 सेकंड के गुप्त उपाय से जानें, आपके घर या परिवार पर कोई बुरी नज़र या काला जादू तो नहीं

कई बार हम देखते हैं की हमारे जीवन में सबकुछ अच्छा चलता रहता है और एकाएक न जाने ऐसा क्या हो जाता है की मानों सबकुछ खत्म होने पर आ जाता है। जी हां और उस दौरान हमें समझ नहीं आता है की आखिर ऐसा क्या हुआ की अचानक सारी खुशियां तो दूर हो ही गई इसके साथ ही साथ कई सारी विपत्तियों का पहाड़ भी टूट पड़ता है। हम समझ नहीं पाते हैं की आखिर ऐसा क्यों हो रहा है?
तो आपको बता दें की अगर आपके साथ भी ऐसा कुछ हो रहा है तो इसका मतलब ये होता है की आप पर किसी की बुरी नजर लग गयी हैं। जी हां अक्सर देखा जाता है की अगर आप काफी ज्यादा खुश रहते हैं या फिर आपका परिवार सुखी से रहता है तो ऐसे में कई लोगों को ये चीजें बर्दाश्त नहीं होती है और वो ये सोचते हैं की आखिर आप इतना ज्यादा खुश केसे हो और इसके बाद वो आपके बारे में बुरा सोचते हैं।
ऐसे में माना जाता है की उनकी कुदृष्टि आपके जीवन पर पड़ गई है और यही वजह होता है की आप एकाएक परेशानियों से घिर जाते हैं। इसे लोग सामान्य शब्दों में बुरी नजर या काली शक्ति के नाम से जानते हैं। इतना ही नहीं आपने कई बार देखा होगा की लोग बुरी नजर से बचने के लिए अपने घर, या फिर दुकान या फिर गाड़ियों पर बुरी नजर से बचने के लिए लोग नींबू और मिर्च टाँगते हैं ताकि हमारा घर बुरी नजरों से बचा रहे। लेकिन आज हम आपको एक ऐसा उपाय बताने जा रहे हैं जिसे अपनाकर आप पता कर सकते हैं की आपके घर को या आपको बुरी नजर लगी है या नहीं। तो आइए जानते हैं फिटकरी का ये आसान उपाय
सबसे पहले तो आपको ये बता दें की जो भी व्यक्ति को अगर ऐसा लगता है की उसे नजर लगी है तो उनको हनुमान चालीसा का पाठ करना चाहिए। और जो व्यक्ति इस तरह की बुरी शक्तियों के कष्ट से पीड़ित व्यक्ति जिस पर विधि की जानी है, उसे कम ऊंचे लकड़ी या हार्ड सरफेश पर पूर्व दिशा की ओर मुख करके बैठा दें। जैसा कि चित्र में दिखाया गया है। अब इसके बाद जो व्यक्ति को नजर उतारना है वो बेर के आकार का एक-एक फिटकिरी का टुकड़ा दोनो हाथों में ले लें और इसके बाद उसे अपने हाथ में उंगलियों को मोड़कर मुट्ठी बना लें तथा अपने शरीर के सामने मुट्ठी को एक-दूसरे के ऊपर रखें। मुट्ठियों को एक-दूसरे के ऊपर क्रॉस की तरह रखें।
वहीं ये भी ध्यान रहे की जिस भी व्यक्ति को ये विधि करनी हैं उसको हनुमान जी के चरणो में नतमस्तक होकर बोलना हैं की जिस भी मनुष्य ने आप पर कुदृष्टि डाली हैं उस पर इस विधि का कोई दुष्प्रभाव ना पड़े। इसके बाद मुट्ठी को बुरी शक्तियों के कष्ट से पीड़ित व्यक्ति के शरीर से पैर तक विपरीत दिशा में ले जाएं तथा भूमि को स्पर्श करें । इसके बाद आप जैसे ही इस प्रक्रिया को शुरू करें वैसे ही अपने हाथों को अलग कर लें और साथ ही दाहिनी मुट्ठी को घड़ी की सुइयों की दिशा में सिर से पैर तक तथा बाईं मुट्ठी को घड़ी की सुइयों के विपरीत दिशा में सिर से पैर तक घुमाएं। जैसे ही सबसे नीचे पहुंचे मुट्ठी से भूमि को स्पर्श करें। और ये करते समय यह वाक्य बोलें- “आने-जाने वाले की, आत्माओं, वृक्षों, पथिकों, स्थानों की कुदृष्टि लगी हो, तो वह दूर हो जाए और रोग तथा आघात से इसकी रक्षा करें।”
इसके बाद इस प्रक्रिया को पूरा हो जाने के बाद फिटकरी के टुकड़े को सिगड़ी अथवा जलते हुए कोयले पर डाल दें अगर फिटकरी बिना कोई आकार लिए पूरी जलकर ढे़र हो जाती है तो इसका मतलब ये है की कोई समस्या नहीं है।

यदि फिटकरी बिना कोई आकार लिए लंबे समय तक जलती रहे तो इसका अर्थ है कि कष्ट देने वाली बुरी शक्ति बहुत शक्तिशाली है।

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ